banner1 banner2 banner3
Bookmark and Share

Diabities

डायबिटीज एक जीवनभर रहने वाला रोग है. इससे पीड़ित व्यक्ति अपनी मर्जी से अपना पसंदीदा खाना तक नहीं खा सकता. डायबिटीज के रोगी को जिन्दगी भर कई चीजों से परहेज करना पड़ता है. आजकल की अस्त-व्यस्त जीवनशैली और अनियमित खानपान अधिकतर लोगों को डायबिटीज का शिकार बनाता जा रहा है. आज इस लेख में हम आपको एक ऐसी चौकाने वाली बात बताने जा रहे हैं जिसपर आप आसानी से भरोसा नहीं कर सकेंगे.

पुराने कई शोधों में यह बात साबित हो चुकी है कि शाकाहारियों की अपेक्षा मांसाहारियों में डायबिटीज होने का ख़तरा बहुत अधिक हो जाता है. शोधों में यह भी पता चला कि मांसाहारी व्यक्ति और प्रतिदिन मक्खन का सेवन करने वाले व्यक्ति को डायबिटीज का ख़तरा शाकाहारी व्यक्ति की अपेक्षा बहुत अधिक होता है.

 

साल 1985 में हुए एक शोध में यह पता चला कि रेड मीट खाने वाली महिलाओं में डायबिटीज का ख़तरा शाकाहारियों के अनुपात में 40% तक बढ़ जाता है और पुरुषों में 80% तक. इसके बाद साल 1999 में हुए एक शोध में यह बात सामने आई कि वो महिलायें जो मांस का सेवन करती हैं उनको डायबिटीज होने का ख़तरा 93% और पुरुषों में 97% होता है. साल 2009 में भी एक शोध में भी ऐसे ही नतीजे देखने को मिले.

विशेषज्ञों के अनुसार शाकाहारी खाना खाने वाले लोगों में डायबिटीज का ख़तरा मांसाहारी व्यक्तियों की अपेक्षा बहुत ही कम होता है. विशेषज्ञों का मानना है कि यदि व्यक्ति शाकाहारी जीवनशैली को अपनाता है तो वह अधिक स्वस्थ रहता है. उनके अनुसार नट्स, योगर्ट और हरी सब्जियों व फलों का सेवन करने वाले लोग मांसाहारी व्यक्तियों की अपेक्षा अधिक स्वस्थ रहते हैं.

वज़न बढ़ने को नज़रअंदाज करना, फास्टफूड का अत्यधिक सेवन करना, बटर व केक पेस्ट्रीज का अत्यधिक सेवन करना और ज़रुरत के अनुसार फाइबर और प्रोटीन ना लेना भी डायबिटीज का कारण है. इसके अलावा बहुत अधिक मात्रा में अल्कोहल का सेवन करने और व्यायाम ना करने व एक ही जगह बैठे रहने से भी डायबिटीज का ख़तरा बढ़ जाता है. 

280272