banner1 banner2 banner3
Bookmark and Share

umakant-baba

पिंगलेश्वर रेलवे स्टेशन के सामने जयगुरुदेव आश्रम में तीन दिनी सत्संग शुरू हुआ। बाबा उमाकांत महाराज के सान्निध्य में भक्ति रस बरसा। इसमें देशभर से आए हजारों अनुयायी शामिल हुए। 10 हजार से ज्यादा लोगों को नामदान दिया। प्रार्थना, सभा, ध्यान और भजन से कार्यक्रम शुरू हुआ। गुलाबी रंग के परिधान में आए अनुयायियों ने स्वप्रेरणा से भजन गाए। ध्यान भी लगाया। प्रवचन में बाबा ने कहा जब इंसान भगवान को पा जाता है। अहंकार से एकत्र किया धन जल्दी नष्ट हो जाता है। ऋषि-मुनि बैठकर साधना करते थे। इसमें उनकी सांसें कम खर्च होती हैं। यही वजह है कि उनकी आयु लंबी होती थी।

सदगुरु की महिमा बताते हुए कहा यमराज के दूत भी सदगुरु के प्रकट होने पर खड़े हो जाते हैं। जो लोग साधना में रहते हैं, भगवान उनके साथ होते हैं। दोपहर में भंडारा प्रसादी में अनुयायियों में सेवा की होड़ देखी गई। 

नामदान में शामिल होने आए शुजालपुर के कमल पटेल का कहना है कि समाज की दिशा बदलने के लिए हमें शाकाहारी बनना पड़ेगा। जय गुरुदेव मिशन से जुड़ने के बाद हमने इसी मुद्दे पर प्रचार किया। अब तक हमारा समूह 100 से ज्यादा लोगों को शाकाहारी बना चुका है। कालापीपल के राजेंद्र गौतम का कहना है हम भारतवासी होने की बात करते हैं लेकिन इस बात की चिंता नहीं पालते कि गोमाता को कैसे बचाएं। देश में गाय माता कट रही है। हमें एकजुट होकर इस मिशन पर काम करना होगा। सरकार को सख्त कानून बनाना होंगे। दतोत्तर मंडी के विजय पटेल का कहना है मिशन गैर राजनीतिक है, इससे सभी को जुड़ना चाहिए।

गुणवत्ताहीन सामान बनाने से रोका तो किया विवाद

कार्यक्रम शुरू होने से पहले मंगलवार को बाबा जयगुरुदेव और पिंगलेश्वर गांव के कुछ लोगों के बीच विवाद हो गया था। इसमें दो लोग घायल हुए थे। मामले में बाबा के अनुयायियों का आरोप है कि कुछ लोग कार्यक्रम स्थल पर गुणवत्ताहीन सामान बनाकर बेचने के लिए दुकान लगाना चाहते थे। हमारे कार्यक्रम में ऐसा कोई सामान नहीं बनाया जाता। देशभर से आए लोगों की सेहत के मद्देनजर हमने उन्हें रोका तो वे विवाद करने लगे। चिमनगंज पुलिस के अनुसार मामले में बुधवार रात तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई थी। मारपीट में घायल दोनों घायलों की हालत में सुधार है।

पंचक्रोशी मार्ग स्थित पिंगलेश्वर महादेव मंदिर के पास बुधवार से जयगुरुदेव के अनुयायियों का मेला लगा। तीन दिन चलने वाले आयोजन के पहले दिन उमाकांत महाराज ने नाम दान किया। भंडारे में हजारों अनुयायियों नेे प्रसाद ग्रहण किया। गुरुवार और शुक्रवार को भी बाबा के सानिध्य में भंडारे का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में अनुयायी दो दिन पहले से कार्यक्रम स्थल पहुंचने लगे थे। बाबा शाकाहार के पक्षधर हैं और अनुयायियों के साथ अन्य लोगों को भी इसकी सलाह देते हैं।

298261